• Nationbuzz News Editor

पवित्र माह रमजान में आजम खान व उनके परिवार को छोड़ने के लिए आबिद रज़ा ने पीएम मोदी से की अपील


यूपी बदायूं। पूर्व मंत्री आबिद रज़ा ने ऑनलाइन प्रेस कॉन्फ्रेंस करके एक महत्वपूर्ण बयान जारी किया है जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से सांसद आजम खान व उनके परिवार को पवित्र रमजान के महीने में पैरोल पर जेल से रिहा करने के लिए आग्रह किया है इस संबंध में आबिद रज़ा ने एक लिखित संदेश पत्र लिखकर प्रधानमंत्री के कार्यालय (पीएमओ) की ईमेल आईडी पर भेजा है। उहन्होने प्रधानमंत्री को ईमेल द्वारा भेजे गए पत्र में कहा कि हम आपका अति महत्वपूर्ण मामले में ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं यह पत्र मैं आपको किसी विशेष पार्टी के नेता होने के कारण नहीं बल्कि आपको हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री होने की हैसियत से लिख रहा हूं । वर्तमान समय में कोरोना महामारी के कारण आपके आदेश अनुसार पूरे देश में लाकडाउन एक माह से जारी है इस समय सांसद आजम खान साहब व उनकी पत्नी तंजील फातमा( विधायक) व उनके पुत्र अब्दुल्लाह आजम सीतापुर( उत्तर प्रदेश ) जेल में बंद है। चूंकि पवित्र रमजान का पाक महीना जल्द शुरू होने वाला है। 2 दिन बाद इस पाक महीने में पूरी दुनिया का मुसलमान रोजा रखते हैं तथा देश की दूसरी सबसे बड़ी आबादी (मुसलमान) भी रमजान शरीफ में रोजा ,नमाज़, अल्लाह की इबादत करते हैं । आजम खान साहब उनका परिवार भी सभी रोजे रखते हैं जेल में होने के कारण उनको (आजम खान) रोजे में सहरी, इफ्तार, तरावीह व नमाज़ व इबादत करने में दिक्कतें आएंगी। आजम खान साहब का एक लंबा राजनैतिक इतिहास रहा है वह दो बार के सांसद, चार बार के कैबिनेट मंत्री, 10 बार के विधायक रहे हैं तथा उनकी पत्नी तंजील फातमा इस समय रामपुर सीट से विधायक हैं तथा उनके पुत्र अब्दुल्लाह आजम 50,000 वोट से जीत कर स्वार सीट से विधायक बने ।राजनैतिक द्वेष भावना से साजिश करके आजम खान साहब व उनके परिवार को जेल में डाल दिया गया । हमें कानून पर पूरा भरोसा है। कानून आजम खान साहब के साथ जरूर इंसाफ करेगा । लॉक डाउन के कारण इस समय उच्च न्यायालय व जिले की सभी अदालतें बंद है इस कारण आजम खान साहब व उनके परिवार की जमानत की प्रक्रिया नहीं हो पा रही है । देश में लॉकडाउन होने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने हर जिले में कई सारे सीनियर सिटीजन जो जेलों में बंद थे उनको उत्तर प्रदेश सरकार ने जेल से पैरोल पर रिहा कर दिया लेकिन द्वेष भावना के चलते सरकार ने आजम खान व उनकी पत्नी जो सीनियर सिटीजन भी है जेल से पैरोल पर रिहा नहीं किया। मौजूदा वक्त में आप देश के प्रधानमंत्री हैं लोकसभा में आप सदन के नेता हैं आजम साहब उसी लोकसभा के सदस्य हैं इस नाते वह आपके लोकसभा परिवार के साथी भी हुए। आपका नारा है "सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास" हमें उम्मीद है आप अपने इस नारे का सम्मान करते हुए आजम खान साहब के प्रकरण में हस्तक्षेप करके हिंदुस्तान की दूसरी सबसे बड़ी आबादी की भावनाओं का सम्मान करेंगे। अन्त में उन्होंने लिखा है कि हमें आपसे उम्मीद व भरोसा है तथा आपसे अनुरोध है कि आप राजनैतिक दलों की राजनीति से ऊपर उठकर इस समय देश के प्रधानमंत्री होने का दायित्व (फर्ज) निभाते हुए सांसद आजम खां व उनके परिवार को रमजान के पाक महीने में पैरोल पर छोड़ने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार के जिम्मेदार नेता व अधिकारियों को प्रभावी आदेश देने की कृपा करें। तब ही आप का नारा "सबका विश्वास" सार्थक साबित होगा। मैंने आपको यह खत भारत (धर्मनिरपेक्ष देश) के नागरिक होने के नाते ,भारतीय होने के हक में लिखा है।

  • Facebook
  • Twitter
  • YouTube