• nationbuzz3

उघैती: दूसरे दिन भी नहीं हुई कोटेदार पर कार्रवाई गरीबों का गेहूं ब्लैक करने जा रहा था


यूपी बदायूं। उघैती संवाददाता:: कोटेदार द्वारा राशन का गेहूं ब्लैक करने के मामले में पूर्ति विभाग द्वारा कोई तहरीर न देने की वजह से पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है। पुलिस पूर्ति विभाग की रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी कोटेदार राशन का गेहूं ब्लैक करने जा रहा था। इस दौरान गांव के लोगों ने मामले की सूचना पुलिस को कर दी। पुलिस ने मामले में पिकअप के चालक को हिरासत में लिया था। पुलिस ने आरोपी को हिरासत में लेने के बाद कार्यवाही की तैयारी शुरू कर दी थी। इस मामले में पूर्ति निरीक्षक संजय सिंह चौधरी ने जांच शुरू कर दी थी, जांच में मामला भी राशन ब्लैक होने का पाया गया था, लेकिन पूर्ति विभाग की तहरीर न मिलने की वजह से कोई कार्रवाई नहीं हो सकी थी।


पुलिस ने दूसरे दिन भी आरोपी पिकअप चालक को हिरासत में रखते हुए कार्रवाई की तैयारी पूरी कर रखी थी लेकिन पूर्ति विभाग द्वारा इस मामले में दूसरे दिन भी तहरीर नहीं दी। इसकी वजह से पुलिस ने दूसरे दिन में आरोपी कार चालक को हिरासत में बैठा रखा है।


कोटेदार को बचाने का प्रयास


पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद कोटेदार को बताने के लिए प्रयास शुरू कर दिए गए। कई राजनीतिक जनप्रतिनिधियों के अलावा प्रभावशाली लोगों ने पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए सिफारिशें शुरू कर दीं पुलिस ने किसी की भी बात नहीं मानी। इसको लेकर राजनीतिक लोग पुलिस के प्रति नाराज दिखाई दिए।


इलाके में चल रहा है कोटेदारों का खेल


शासन द्वारा पोस मशीन से राशन वितरण प्रणाली की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इस प्रक्रिया में कोटेदारों को कमीशन का खेल खत्म हो गया है, इसलिए अधिक मुनाफा लेने के चक्कर में कोटेदार ग्राहकों को नियम से कम राशन वितरित कर सरकार के नियमों को ठेंगा दिखा रहे हैं। इसी का नतीजा है, कोटेदार ब्लैक करने का सिलसिला तमाम नियमों के बाद भी जारी रख रहे हैं। इस मामले में कार्रवाई होने के बाद कोटेदारों पर शिकंजा कसने की प्रशासन की ओर से शुरुआत हो गई है।