• nationbuzz3

बदायूं में इस फसल की हुई ऐसी उपज की कोल्ड स्टोरों के बाहर लग गई आलू से भरी ट्राली


बदायूं। जिले में इस बार आलू का उत्पादन अच्छा हुआ है। इस समय अपेक्षित भाव न मिलने से किसानों ने आलू कोल्ड स्टोर आलू डालना शुरू कर दिया है। इससे कोल्ड स्टोर पर ट्रैक्टर-ट्राली की लंबी कतारें लग रही हैं।


खेड़ा नवादा, बदायूं-बिसौली रोड और बदायूं-बरेली रोड स्थित आलू कोल्ड स्टोरों पर सुबह से लेकर शाम तक किसानों के आलू लदी ट्रालियां दिखाई पड़ रही हैं। इससे जाम की स्थिति भी बन रही है। भूखे-प्यासे रहकर आलू को सुरक्षित रखने की कोशिश में लगे हैं ताकि भाव चढ़ने पर उन्हें अपनी उपज का उचित मूल्य मिल सके। आलू की पैदावार इस बार काफी कम निकल रही है। किसानों ने बताया कि आलू की खेती कर मुनाफा नहीं मिल पाया। पिछले वर्ष आलू की महंगाई के कारण अधिक क्षेत्रफल में खेती हुई है। इसके बावजूद भाव कम मिलने से लाभ नहीं मिल पा रहा है। परवेज कोल्ड स्टोरेज मैनेजर मुकेश कुमार का कहना है कि आलू की पैदावार अधिक होने के कारण कोल्ड स्टोरेज के बाहर वाहनों की लाइन लग रही है। जब पैदावार कम होती है तो एक दिन में 2000 से 3000 बोरी आलू तक का भंडारण होता था, अब एक दिन दिन में इस समय 5000 बोरी प्रतिदिन भंडारण किया जा रहा है फिर भी खत्म नहीं हो रही है।


क्‍या बोले किसान: आलू की खेती करने के बाद लागत भी नहीं निकल पा रही है। अच्छे भाव की आस में कोल्ड स्टोर में आलू का भंडारण कराना भी आसान नहीं है, काफी मुश्किल हो रही है।

गुड्डू अली


आलू खेती करने के बाद किसान को परेशानी परेशानी उठानी पड़ रही है प्रति बीघा आलू की खोदाई जा रही है, जमा करने के लिए भी भारी परेशानी उठानी पड़ रही है। शौकत अली


इस वर्ष आलू की खेती में कोई लाभ नहीं मिला, हानि हो रही है। आलू जमा करने के लिए सरकार की तरफ से कोई शीतगृह नहीं खोला गया है। निजी कोल्ड स्टोर स्वामी मनमर्जी कर रहे हैं। - दिलबाग


आलू की खेती कर पछता रहे हैं। कोल्ड स्टोर में जमा करने के लिए लाइन में लगना पड़ रहा है। 280 प्रति क्विंटल कोल्ड स्टोर भाड़ा देना पड़ रहा है जो पहले 260 रुपये था।

बाबूराम