• nationbuzz3

बदायूंः एसडीएम से कहासुनी के बाद बसपा के पूर्व पदाधिकारी ने जहर खाया, मौत


यूपी बदायूं। सहसवान तहसील में जहर खाने वाले हरवीर की जेब से सुसाइड नोट भी मिला है। इसमें उन्होंने एसडीएम सहसवान व कानूनगो ओमकार को अपनी मौत का जिम्मेदार ठहराया है। यह भी आरोप लगाया गया है कि कानूनगो ने उनकी जमीन की श्रेणी परिवर्तन के लिए 50 हजार रुपये मांगे थे। इधर, परिवार वाले भी एसडीएम व कानूनगो के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़े रहे। यहां तक कि शव भी मोर्चरी में नहीं रखने दिया। गाड़ी में ही शव लिये बैठे परिजन कार्रवाई की मांग कर रहे थे। सीओ सिटी विनय द्विवेदी भी मौके पर पहुंचे और वार्ता के बाद परिवार वालों को समझाया।


हरवीर की मौत एक बार फिर प्रशासन के गले की फांस बन गयी है। वजह है कि जेब में मिला सुसाइड नोट आत्महत्या की कहानी बयां कर रहा है। मामला बसपा से जुड़ा हुआ है। ऐसे में पार्टी जिलाध्यक्ष समेत पूर्व जिलाध्यक्ष व कई बसपा नेता रात में ही अस्पताल पहुंच गए। किसी अप्रिय घटना की आशंका के चलते सदर कोतवाली, सिविल लाइंस के अलावा सहसवान कोतवाली की पुलिस भी अस्पताल जा पहुंची। परिवार वालों ने गाड़ी से शव उतारने से स्पष्ट इंकार कर दिया। परिजनों का कहना था कि पहले इस मामले के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई हो, इसके बाद ही लाश पुलिस के कब्जे में दी जाएगी। विलाप करते हुए परिवार वाले बार-बार कार्रवाई की मांग कर रहे थे।


अधिकारियों ने की समझाने की कोशिश


सीओ सिटी मौके पर पहुंचे और परिवार वालों को निष्पक्ष कार्रवाई का आश्वासन दिया। कहा कि जांच में जो भी दोषी पाया जायेगा, उसके खिलाफ कार्रवाई होगी लेकिन फिलहाल पोस्टमार्टम की प्रक्रिया जरूरी है और शव का पंचायतनामा भरने दिया जाये। समाज के संभ्रांत लोगों ने इस पर सहमति जताई और परिवार वाले पोस्टमार्टम को राजी हो गये।


ये रही पारिवारिक स्थिति


हरवीर तीन भाइयों में मझला था। सबसे बड़े जसवीर, फिर हरवीर और सबसे छोटा संजीव है। उसके परिवार में पत्नी ममता के अलावा 11 साल की बेटी नीतू, नौ साल की सपना, सात साल का बेटा अंशु, पांच साल की बेटी अनामिका और तीन साल का बेटा कार्तिक हैं। कच्ची गृहस्थी छोड़कर जाना परिवार पर किसी बज्रपात से कम नहीं है।

  • Facebook
  • Twitter
  • YouTube
© Copyright ® All rights reserved Nation Buzz 2017 - 2020