विधानसभा बजट सत्र में सीएम योगी ने जमकर निशाना साधा बोले- समाजवादी कभी सच नहीं बोलते


यूपी। लखनऊ. बजट सत्र के नौवें दिन बजट पर चर्चा में भाग लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछली समाजवादी सरकार पर जमकर निशाना साधा. इस दौरान सीएम ने अपनी सरकार के काम गिनाते हुए कहा कहा कि हमने ग्रामीण क्षेत्र में गड्ढा मुक्त सड़कों का जाल बिछाया, युवाओं को रोजगार मुहैया कराया, शिक्षा के क्षेत्र में उपलब्धियां गिनाई. हालांकि इस दौरान सीएम योगी की बातों का समाजवादी पार्टी के विधायकों ने जमकर विरोध भी किया।


बजट में समग्र विकास का प्रयास

सीएम योगी ने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का जिक्र करते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी इसी एक्सप्रेस-वे को 15 हजार 10 करोड़ में बना रही थी और उनकी सरकार इसे 11 हजार 10 करोड़ में बना रही है. उन्होंने व्यंग्यात्मक लहजे में कहा कि 'समाजवादी कभी सच नहीं बोलते'. आगे बोलते हुए सीएम योगी ने कहा कि हमने बजट में समग्र विकास करने का प्रयास किया है. उन्होंने कहा कि विकास का एजेंडा जब तक संतुलित नहीं होता तब तक बजट सिर्फ जाति और मजहब तक सीमित रह जाता है इसके लिए विराट सोच की आवश्यकता होती है. इन चार वर्षों में बजट का दायरा बढ़ा है तो प्रति व्यक्ति आय भी बढ़ी है. बजट में आम आदमी पर कोई टैक्स नहीं बढ़ाया गया, रिजर्व बैंक की गाइड लाइन का पालन किया गया।


सीएम ने कहा कि प्रदेश के अंदर शिक्षा और स्वास्थ्य को प्रोत्साहन दिया गया तथा सुरक्षा का वातावरण विकसित करने का प्रयास किया गया महिला सशक्तिकरण को प्राथमिकता देते हुए युवा ऊर्जा का विशेष ध्यान रखा गया. इन बातों को पिछले चारो बजट के केंद्र में रखा गया जिसके उल्लेखनीय परिणाम देखे जा सकते हैं. उनका कहना था कि इस बार का बजट युवाओं पर केंद्रित रखा है. यूपी में सबसे अधिक युवा हैं. हमने एक लाख सैंतीस हजार पुलिस बल तथा 41 हजार शिक्षक दिए, विभिन्न विभागों में भर्तियां की।


नेता विधान परिषद पर भी कसा तंज

नेता विधान परिषद को भी निशाने पर लेते हुए सीएम ने कहा कि नेता विरोधी दल सही व्यक्ति हैं और पुलिस में भी रहे हैं लेकिन गलत जगह पर चले गए. उन पर गलत लोगों की संगति का असर हो गया है. इस पर समाजवादी पार्टी ने कड़ा विरोध किया. उन्होने विपक्ष को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि

क्या न्याय पालिका पर हमला करना सही है ? क्या राम भक्तों पर गोली चलाने के आदेश देना सही है ? सच कड़वा होता है लोगों को सच सुनना अच्छा नहीं लगता है. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने 54 पीएसी की कम्पनी को बहाल करने का कार्य किया है साथ ही तीन महिला कंपनी को प्रदेश में शुरू किया और प्रदेश में व्यापक पैमाने पर रोजगार को सृजित किया है.शिक्षा व्यवस्था पर बोलते हुए सीएम ने कहा कि हमने एक लाख 58 हजार विद्यालयों का कायाकल्प किया है जबकि समाजवादी मुख्यमंत्री खुद प्राइमरी में पढ़े और अपने बच्चों को ऑस्ट्रेलिया में पढ़ा रहे हैं.

पिछली सरकार के कार्यकाल में हालात ऐसे थे कि शाम होते ही अंधेरा हो जाता था. अब यूपी में हर तरफ चमचमाती हुई सड़कें, उजाला और अपराध मुक्त माहौल है. उन्होंने यह भी कहा कि पिछली सरकार के बजट का उद्देश्य सिर्फ अपने पॉलिटिकल एजेंडे को आगे बढ़ाना था इसीलिए प्रदेश के विकास पर ध्यान नही दिया गया. जिसका पुरजोर विरोध समाजवादी पार्टी के नेताओं ने किया. सपा नेता सुनील साजन ने कहा कि मुख्यमंत्री ने बेसिक शिक्षा पर बोलते हुए यह नहीं बताया कि उनके समय में उन्नाव में शिक्षा में इतना बड़ा घोटाला कैसे हो गया. उन्होंने मुख्यमंत्री योगी को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि सीएम तो संत है और संत झूठ नहीं बोलते, वो बताएं कि हकीकत क्या है?