• Nationbuzz News Editor

डीएम को गांव की सफाई व्यवस्था मिली चौपट, लापरवाह सफाई कर्मी बर्खास्त


बदायूं। ब्लाक जगत अन्तर्गत ग्राम खरखोली बुजुर्ग में व्याप्त गंदगी देख आश्चर्य व्यक्त करते हुए डीएम ने सफाईकर्मी के सम्बंध में जानकारी ली तो बताया कि गांव में सफाई कार्य न करने के कारण उसे पहले ही निलंवित किया जा चुका है। उन्होंने निर्देश दिए कि ऐसे लापरवाह कर्मियों की कोई आवश्यकता नहीं है। विधिक कार्यवाही पूर्ण करते हुए दोषी सफाई कर्मी को बर्खास्त किया जाए।


गुरुवार को जिलाधिकारी कुमार प्रशान्त औचक रूप से ग्राम खरखोली पहुंचे तो उनका काफिला देखकर ग्रामीण जमा हो गए। डीएम ने सीडीओ निशा अनंत के साथ सर्वप्रथम स्कूल प्राथमिक विद्यालय का निरीक्षण किया। रसोई घर, आंगनबाड़ी केन्द्र देखने के बाद कक्षा में जाकर शिक्षण व्यवस्था का जायजा लिया। कक्षा पांच के बच्चों से अंग्रेजी की पुस्तक पढ़वाई और पहाड़े सुने। डीएम ने कहा कि अंग्रेजी की शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया जाए। विद्यालय में पंजीकृत 138 के सापेक्ष मात्र 64 बच्चे ही उपस्थित मिले, जिस पर डीएम ने कड़ी नाराज़गी व्यक्त की। निर्देश दिए कि स्कूल की चाहरदीवारी एवं टाइल्स आदि लगाने का कार्य प्राथमिकता के आधार पर किया जाए। गांव का भ्रमण कर शौचालय के प्रयोग का भी सत्यापन किया।


यहां धनराशि न मिलने के कारण 133 शौचालयों में 30 शौचालयों का निर्माण कार्य अपूर्ण है। डीएम ने एडीओ पंचायत को निर्देश दिए कि गांव में सफाई कर्मियों की टीम लगाकर सफाई व्यवस्था चाकचैबंद की जाए। सामुदायिक शौचालय का निर्माण भी कराया जाएगा। डीएम ने तलाब के जीर्णाेद्धार के निर्देश देते हुए कहा कि इसके आसपास जो घर हैं, वह अवैध तो नहीं हैं। इस लिए तलाब की पैमाइश कराई जाए। ग्रामीणों ने जानकारी दी कि इसी गांव के मजरा कुंदन नगला में स्कूल को जाने वाले खडंजे की ईटें ग्रामीणों ने निकाल ली है। डीएम ने प्रधान पति अरविन्द को हिदायत दी कि स्कूल को जाने वाले मार्ग को ठीक कराया जाए। कोई व्यक्ति पुनः ईटें निकाले तो उसके विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराएं। आंगनबाड़ी केन्द्र पर बच्चों की उपस्थिति कम पाए जाने पर नाराज़गी व्यक्त की है। इस अवसर पर खण्ड विकास अधिकारी, एडीओ पंचायत शशिकांत शर्मा मौजूद रहे।