• nationbuzz3

मेडिकल कॉलेज के संविदा कर्मियों ने किया कार्य बहिष्कार, एक सप्ताह का समय दिया


यूपी बदायूं। संविदा कर्मचारियों का वेतन कम करने के विरोध में राजकीय मेडिकल कॉलेज के कर्मी हड़ताल पर चले गए। संयुक्त स्वास्थ्य आउटसोर्सिंग/संविदा कर्मचारी संघ के बैनर तले सभी कर्मचारी आये और सरकार के साथ शासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने हड़ताल करके अपनी मांगों को रखा। इसके बाद पहुंचे प्राचार्य का घेराव हुआ और ओपीडी सहित सेवायें ठप कर दी गईं। दोपहर बाद कहीं प्राचार्य ने एक सप्ताह का आश्वासन देकर हड़ताल खत्म कराई।


सोमवार सुबह से बदायूं राकीय मेडिकल कॉलेज में संयुक्त स्वास्थ्य आउटसोर्सिंग/संविदा कर्मचारी संघ के बैनर तले कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू कर दी। जिसके बाद मेडिकल कालेज में स्टाफ से वार्ड खाली हो गये। ओपीडी से कर्मचारी काम बंद कर बाहर आ गए। इस कारण ओपीडी पूरी तरह से ठप हो गयी। जिसके चलते मरीजों को परेशान होकर वापस लौटना पड़ा है।


संयुक्त स्वास्थ्य आउटसोर्सिंग/संविदा कर्मचारी संघ की जिलाध्यक्ष रेखा सिंह के नेतृत्व में सुबह 9 बजे सभी कर्मचारी इमरजेंसी गेट पर एकत्र हुये और हड़ताल शुरू कर दी। इसके बाद मेडिकल कॉलेज के प्रशासनिक भवन के बाहर एकत्र होकर अपनी मांगों के समर्थन में काम ठप कर दिया।


जैम पोर्टल से हुआ रिन्युवल व ठेका


बता दें कि कर्मचारी संविदा पर लगे हैं पहले ई-टेंडर प्रक्रिया के तहत लगे थे। लेकिन सरकार ने अब बदलाव कर दिया है और उनका रिन्यूवल और ठेका जैम पोर्टल से हो रहा है और कंपनी बदल दी गई है। जिसकी वजह से कर्मचारियों का वेतन बढ़ने की बजाये कम हो गया है। कर्मचारियों को 300 रुपये से ज्यादा देने का प्रावधान है लेकिन अब इससे कम भुगतान उन्हें हो रहा है।


वार्ड से ओपीडी तक मरीज परेशान


कर्मचारियों की हड़ताल से ओपीडी पूरी तरह से बंद हो गयी और वार्डों में भी स्टाफ नहीं रहा। इससे मरीजों को काफी दिक्कत हुयी। ओपीडी से मरीजों को वापस जाना पड़ा। यहां डॉक्टर बैठे रहे और नियमित कर्मचारियों से कुछ कार्य कराते रहे।


नौकरी की दी धमकी


ओपीडी में कोई कर्मचारी काम करने नहीं गया तो डॉक्टर से लेकर अफसर गुस्सा हो गये और बार-बार कर्मचारियों पर दबाव बनाया। स्टाफ को धमकी भी दी कि अगर ड्यूटी नहीं की तो नौकरी से भी हाथ धोना पड़ सकता है। नौकरी पर कार्रवाई को लिख दिया जायेगा।


वेतन देने में कर्मचारियों का शोषण हो रहा है। कई बार ज्ञापन देकर मांग उठाई जा चुकी है। प्राचार्य ने एक सप्ताह का समय दिया है अब कुछ नहीं हुआ तो अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे। हमने इमरजेंसी सेवा प्रभावित नहीं की। ओपीडी सहित अन्य कर्मचारियों ने अपने हक की लड़ाई लड़ी है।

रेखा सिंह, जिलाध्यक्ष संयुक्त स्वास्थ्य आउटसोसिंग/संविदा कर्मचारी संघ


कर्मचारियों की समस्या को लेकर शासन में बात की है। कई बार पत्राचार किया है। प्रयास है कि समस्या का हल हो जाये। एक सप्ताह का समय दिया और हड़ताल खत्म करा दी है।


डॉ. धर्मेंद्र गुप्ता, प्राचार्य मेडिकल कालेज