top of page
  • Mohd Zubair Qadri

सरकारी व्यवस्थायें दम तोड़ चुकी प्राइवेट अस्पतालों में डेंगू उपचार के नाम पर लूट


यूपी बदायूं। सरकारी व्यवस्थायें दम तोड़ चुकी हैं। जिसकी वजह से पीड़ित तीमारदारों के साथ प्राइवेट व झोलाछापों के अस्पतालों में पहुंच रहे हैं। प्राइवेड अस्पताल तो फुल हो गये हैं लेकिन फिर भी लोग उपचार के लिये लाइन लगाये हैं। ऐसे में अस्पतालों की ही नहीं मेडिकल स्टोर और लैब संचालकों की चांदी कट रही है।


जिले में डेंगू के मरीज सरकारी अस्पताल से कम प्राइवेट अस्पताल व पैथलॉजी लैब से डेंगू की पुष्टी की जा रही है। मगर कहां का मरीज डेंगू ग्रस्त हैं और कहां भर्ती कब से है इसकी जानकारी प्राइवेट अस्पताल संचालक स्वास्थ्य विभाग को नहीं दे रहे हैं। शहर के सभी अस्पताल डेंगू के मरीजों से हाउसफुल हैं। यहां मरीजों को भर्ती करने के लिये जगह नहीं मिल रहे हैं। इसलिये भर्ती करने पर मरीजों से अनाप-शनाप वैसा वसूला जा रहा है। वहीं पैथोलॉजी लैब पर जांच कराने की लाइन लगी हैं, लैब संचालकों ने भी समय को देखते हुये जांच के दोगुने दाम कर दिये हैं। मलेरिया, डेंगू और टाइफाइड की जांच के पहले जब 200 से 300 रुपये जाते थे अब वहीं लैबों ने 400 से 600 कर दिये हैं। डेंगू का मरीज भर्ती करने पर एक दिन का तीन से पांच हजार रुपये चार्ज लिया जा रहा है। इसके अलावा दवाओं का बोझ लाद दिया जा रहा है।


बेड से ज्यादा मरीज भर्ती


शहर में तमाम अस्पताल चल रहे हैं। इन्होंने जब पंजीकरण कराया तभी व्यवस्थाओं को खींचतान कर कराये हैं इसके बाद ऊपर से अब मरीजों की लाइन लगी है इसलिये कमाई के लालच में क्षमता से ज्यादा मरीज कर रखे हैं। अस्पतालों के रजिस्ट्रेट दस बेड के हैं वर्तमान में 20 से 30 और 40 मरीज भर्ती हैं।


अवैध रूप से चल रहीं लैब


शहर से देहात तक पैथलॉजी लैब का मकड़जाल फैला हुआ है। पैथलॉजी लैब शहर से देहात तक दर्जनों चल रही हैं लेकिन विभाग को चूना लगाया जा चुका है। बिना किसी पंजीकरण और टीम के अवैध तरीके से लैब चल रही हैं। मगर स्वास्थ्य विभाग की नींद अभी भी नहीं टूटी हैं स्वास्थ्य विभाग अवैध लैब पर कार्रवई नहीं की जा रही है। जबकि लैब से रिपोर्ट भी ठीक नहीं आ रही है।

bottom of page