• nationbuzz3

धर्मशाला: दस्तावेज नहीं दिखा पा रहे क्रेता-विक्रेता दस्तावेज में खरीदारों ने केवल बैनामा दिखाया


यूपी बदायूं। शहर के जोगीपुरा में स्थित धर्मशाला की संपत्ति के केयर टेकर मालिकाना हक का इस्तेमाल करके धर्मशाला को बेच डाला है। इसकी पोल खुली तो बड़ा मामला सामने आया है। इस संपत्ति पर प्रशासन ने अपने ताले डाल दिये हैं। प्रशासन ने क्रेता और विक्रेता से दस्तावेज मांगे हैं मगर कोई भी पूर्ण दस्तावेज दिखाने को तैयार नहीं हैं।


शहर के श्रीकृष्ण धर्मशाला की संपत्ति को खरीद तो ली गयी और बैनामा करा लिया। रजिस्ट्री आफिस के अफसरों ने भी आंखें बंद करके बैनामा कर दिया। मामला गोपनीय रखकर इस काम को अंजाम दिया गया। मामला तब खुला जब श्रीकृष्ण धर्मशाला को गिराने का काम शुरू हुआ। शिकायत हुयी तो प्रशासन ने हल्के में लेकर कोतवाल को काम बंद कराने को कह दिया। कोतवाल ने भी छह सड़का चौकी इंचार्ज को बता दिया। इसके बाद भी काम चलता रहा। रविवार को जब सिटी मजिस्ट्रेट पहुंचे तो यहां 14 मजदूर काम करते मिले। जिसके बाद मामले ने तूल पकड़ा और मजदूरों को हिरासत में लेकर कोतवाली ले जाया गया। भवन के मुख्य गेट पर ताला डाल दिया गया। सारे कागजात संग 13 जुलाई को दोनों पक्षों को बुलाया।


सिटी मजिस्ट्रेट के अनुसार दस्तावेज में खरीदारों ने केवल बैनामा दिखाया है इसके अलावा धर्मशाला से संबंधित कोई दस्तावेज नहीं दिखाया है। क्रेता, विक्रेता दोनों ही अन्य कोई कागज नहीं दिखा पा रहे हैं। मामला सिटी मजिस्ट्रेट के न्यायालय में हैं और रिकार्ड सहित दस्तावेज मांगे जा रहे हैं। बेचने वाला यह बताने को तैयार नहीं है कि किस आधार पर उसने धर्मशाला को बेचा है। सिटी मजिस्ट्रेट का कहना है कि कुछ दिन का समय है उसके बाद प्रशासन अपनी कार्रवाई शुरू कर देगा।


श्रीकृष्ण धर्मशाला मामले में सुनवाई चल रही है। मामले में दस्तावेज मांगे गये हैं कुछ लोगों ने बैनामा की कॉपी दी है लेकिन बेचने वाला कौन है किस आधार पर उसने बेच दी ऐसा कोई साक्ष्य नहीं दिया है। कुछ दिनों का समय और दिया है साक्ष्य उपलब्ध नहीं कराते हैं तो कार्रवाई को आगे बढ़ाया जायेगा।

अमित कुमार, सिटी मजिस्ट्रेट