• nationbuzz3

सरकार हर मोर्चे पर नाकाम यूपी विधानसभा चुनाव में 400 सीटे जीतने का लक्ष्य, अखिलेश यादव


यूपी। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने मिशन-2022 के लिए गुरुवार को चुनावी अभियान की शुरुआत कर दी। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश के लोग आज साइकिल पर हैं। सरकार हर मोर्चे पर नाकाम रही है और इसी के चलते भाजपा की स्थिति काफी खराब है। हम 350 सीटें जीतने का दावा भले कर रहे हैं, लेकिन जनता में इतनी नाराजगी है कि वो सपा को 400 सीटें भी जिता सकती है।


अखिलेश गुरुवार को जनेश्वर मिश्र की जयंती पर साइकिल यात्रा शुरू करने से पहले पार्टी मुख्यालय पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अपराधियों पर शिकंजा कसने की बात करने वाली भाजपा आज उनका स्वागत कर रही है। भाजपा जनता को कंफ्यूज करते-करते, खुद ही कंफ्यूज हो चुकी है, तभी अपनी पार्टी में अपराधियों का स्वागत कर रही है। भाजपा को इस बार चुनाव में प्रत्याशी नहीं मिलेंगे। अब चुनाव आ रहा है तो वह पिछड़ों, दलितों को लेकर झूठी घोषणाएं कर रही है।


मेनिफेस्टो नहीं मनी फेस्टो बनाती

उन्होंने कहा कि भाजपा ने अपना एक भी चुनावी वादा पूरा नहीं किया। यह भी कहा कि भाजपा चुनाव में मेनिफेस्टो नहीं मनी फेस्टो बनाती है। भाजपा ने पूरे साढ़े चार साल बर्बाद किए हैं। मुख्यमंत्री को लैपटॉप चलाना नहीं आता है, इसलिए उन्होंने लैपटॉप नहीं बांटा है। उन्हें डीएनए के बारे में कोई जानकारी नहीं है, उन्हें तो डीएनए का फुल फॉर्म भी नहीं पता होगा।


काम नहीं झूठ में नंबर वन भाजपा सरकार

अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार काम में नहीं झूठ में नंबर वन है। एक-एक कर इसे गिनाया। कुपोषण यूपी में नंबर वन, महिला असुरक्षा में नंबर वन, नौजवानों पर लाठी चलवाने में नंबर वन है। कोरोना से 1600 शिक्षक मरे लेकिन भाजपा झूठ बोलने में नंबर वन है। नौजवान पीढ़ी का भविष्य बर्बाद करने में नबंर वन, पंचायत चुनाव में लोगों की बलि देने में नंबर वन भाजपा रही है।


महंगाई व बेरोजगारी का विरोध

उन्होंने कहा कि जनेश्वर मिश्र समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्य थे। आज उनके जन्मदिन पर सपा महंगाई, बेरोजगारी और कृषि कानूनों के खिलाफ सड़क पर उतर रही है। कोरोनाकाल में सरकार के कुप्रबंधन के कारण तमाम परिवारों ने अपनों को खो दिया। सरकार लोगों को दवा, ऑक्सीजन और बेड नहीं दे पाई। भाजपा ने किसानों से झूठे वादे किए कि उनकी आय दोगुनी हो जाएगी, लेकिन आज तक नहीं हुई।