• Nationbuzz News Editor

ग्रीनफील्ड्स पब्लिक स्कूल दिलशाद गार्डन में गुरु पूर्णिमा का पर्व हर्षोल्लास से मनाया गया


खबर दिल्ली। दिलशाद गार्डन में गुरु के प्रति इसी भावना को ध्यान में रखते हुए दिनांक 5 जुलाई, 2020 ग्रीनफील्ड्स पब्लिक स्कूल, दिलशाद गार्डन के माध्यमिक विभाग द्वारा ज़ूम कक्षा के माध्यम से गुरु पूर्णिमा मनाई गई। विद्यालय की संस्थापक प्रधानाचार्या डॉ श्रीमती माणिक बर्सले, प्रधानाचार्य डॉ एस. के. शर्मा एवं मुख्याध्यापिका श्रीमती पूर्णिमा उपाध्याय की अध्यक्षता एवं मार्गदर्शन द्वारा गुरु पूर्णिमा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ विद्यालय की संस्थापक प्रधानाचार्या डॉ श्रीमती माणिक बर्सले, प्रधानाचार्य डॉ एस.के. शर्मा, मुख्याध्यापिका श्रीमती पूर्णिमा उपाध्याय एवं प्रभारी श्रीमती सुधा चड्ढा के द्वारा अपने-अपने निवास स्थान से दीप प्रज्ज्वलित करके किया गया। लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए हिंदी/संस्कृत विभाग के अध्यापकगण द्वारा कार्यक्रम में भाग लेने वाले विद्यार्थियों को उनके घरों से ही विभिन्न कार्यक्रमों के लिए निर्देश देते हुए तैयारियां करवाई गई। गुरु पूर्णिमा के दिन ज़ूम कक्षा के माध्यम से माध्यमिक विभाग के विद्यार्थियों ने इन कार्यक्रमों को देखा।


कार्यक्रम के आरंभ में अध्यापकगण द्वारा विद्यार्थियों को गुरु पूर्णिमा से संबंधित जानकारी दी गई।फिर विद्यार्थियों को कार्यक्रम से संबंधित पी.पी.टी. दिखाई गई।उसके पश्चात गुरुकुल का दृश्य दिखाते हुए गुरु पूर्णिमा से संबंधित जानकारी विद्यार्थियों द्वारा गुरु एवं शिष्य के बीच संवाद के रूप में दिखाई गई। विद्यार्थियों की विभिन्न वीडियो के माध्यम से श्लोक गायन, गुरुओ के प्रति आभार व्यक्त करते हुए स्वरचित कविता वाचन, गुरु भक्ति से संबंधित दोहा गायन विद्यार्थियों को दिखाया गया। चैट बॉक्स के माध्यम से अध्यापकगण ने गुरु पूर्णिमा से संबंधित प्रश्न विद्यार्थियों से पूछे।गुरु पूर्णिमा से संबंधित अनेक रचनात्मक गतिविधियां भी विद्यार्थियों को करने को दी गई। विद्यार्थियों को इस बात का ज्ञान दिया गया कि व्यक्ति के जीवन में अनेक गुरु आते हैं,जैसे विद्यालय में पढ़ाने वाले गुरु जो हमें अज्ञान के अंधकार से ज्ञान के प्रकाश की ओर ले जाते हैं, उसी तरह माता-पिता भी हमारे गुरु होते हैं जो हमें जीने का ढंग सिखातें हैं। इस तरह गुरुओं के सानिध्य में हमारी जिंदगी सार्थक होती हैं। गुरु की महत्ता इसी बात से सिद्ध हो जाती है-


सब धरती कागज करूं, लेखनी सब वनराज।

सात समुद्र की मसि करूं, गुरु गुण लिखा न जाए।।


ज़ूम कक्षाओं में मुख्याध्यापिका श्रीमती पूर्णिमा उपाध्याय एवं प्रभारी सुधा चड्ढा ने उपस्थित होकर विद्यार्थियों को गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं दी एवं कार्यक्रम में भाग लेने वाले विद्यार्थियों की प्रशंसा की। इस तरह "विद्यार्थियों के जीवन में गुरु की महत्ता" पर आधारित गुरु पूर्णिमा का कार्यक्रम हर्षोल्लास के साथ संपन्न हुआ।

  • Facebook
  • Twitter
  • YouTube