top of page
  • Mohd Zubair Qadri

निजी हॉस्पिटल में पथरी के इलाज के नाम पर किडनी निकाली, अलीगढ़ में कराया था ऑपरेशन


यूपी कासगंज। कासगंज के एक होमगार्ड की अलीगढ़ में डॉक्टर ने स्टोन के इलाज के दौरान किडनी निकाल ली। होमगार्ड का आरोप है कि अलीगढ़ के निजी हॉस्पिटल में उसने किडनी में स्टोन का इलाज करवाया था। 7 महीने बाद दोबारा दर्द होने पर उसने अल्ट्रासाउंड कराया तो डॉक्टरों ने उसे बताया कि उसकी लेफ्ट किडनी ही नहीं है। ये सुनकर उसके पैरों तले जमीन खिसक गई।


होमगार्ड सुरेश ने बताया, " करीब 1 साल से मुझे पेट में बायीं तरफ रुक रुककर दर्द हो रहा था। इसके चलते बीते 12 अप्रैल 2022 को कासगंज शहर के नदरई गेट पर स्थित अल्ट्रासाउंड कराया तो लेफ्ट किडनी में स्टोन का पता चला। जिसके बाद मैं अलीगढ़ स्थित निजी हॉस्पिटल में गया और डॉक्टरों को अल्ट्रासाउंड दिखाकर स्टोन के ऑपरेशन की बात की।"


सुरेश ने बताया," लैब के एक कर्मचारी ने अपना परिचित बताकर मुझे अलीगढ़ के हॉस्पिटल में ऑपरेशन कराने की सलाह दी थी। इसके बाद 14 अप्रैल 2022 को मैंने वहां अपना ऑपरेशन कराया। "


7 महीने बाद दोबारा हुआ दर्द


सुरेश के मुताबिक, 7 महीने बाद 29 अक्टूबर 2022 को मेरे पेट में फिर से दर्द हुआ, जिसके बाद उसी दिन कासगंज की उसी गोविल लैब में अल्ट्रासाउंड टेस्ट कराया, जहां 7 महीने पहले टेस्ट कराया था। लेकिन इस बार उनके पेट से स्टोन के साथ लेफ्ट किडनी भी गायब बताई गई।"


हॉस्पिटल वालों ने कहा था पैसे की चिंता न करो


होमगार्ड सुरेश ने बताया कि ऑपरेशन के समय वह घर से आने वाले पैसों का इंतजार कर रहे थे तो हॉस्पिटल स्टाफ ने कहा कि पैसों की कोई चिंता मत करो, जल्दी से ऑपरेशन करवा लो। सुरेश ने हॉस्पिटल वालों की बातों में आकर ऑपरेशन करा लिया। लेकिन अब उसकी बाईं किडनी ही गायब है। सुरेश का आरोप है कि अलीगढ़ के हॉस्पिटल में उसकी लेफ्ट किडनी निकाल ली गई, इसलिये आजतक ऑपरेशन के पैसे भी नहीं लिये गए हैं।


DM बोलीं- लिखित शिकायत पर करेंगे कार्रवाई


होमगार्ड सुरेश ने किडनी निकाले जाने की मौखिक रूप से शिकायत कासगंज डीएम हर्षिता माथुर से की है। हालांकि डीएम ने लिखित शिकायत मिलने पर कार्रवाई की बात कही है। पीड़ित होमगार्ड ऑपरेशन के समय कासगंज में जिलाधिकारी के आवास पर ही तैनात था।


बोले-रिपोर्ट लेकर भटक रहा हूं


सुरेश ने बताया कि अब मैं अपनी रिपोर्ट लेकर इधर-उधर भटक रहा हूं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। ऐसे में अस्पताल के डॉक्टरों पर कार्रवाई कैसे होगी। मेरी एक किडनी निकाल ली गई। मैं घर का इकलौता कमाने वाला हूं।



bottom of page