• nationbuzz3

मदरसा बरकातिया रज़ाबिया का एलान, शादी में गैर शरई काम होंगें तो उस शादी में निकाह नहीं पढ़ाएंगे इमाम


यूपी बदायूं। शादियों में शरीयत के खिलाफ हो रहे है काम जिसकी वजहा से मिल्लते इस्लामियां का हर एक इंसान परहेज करे इसी में ही इंसान की कमियाबी है। खानकाहे मज़हरिया के सज्जादा नशीन मौलाना मंज़र हसन नूरी और मदरसा बरकातिया रज़विया के प्रबंधक तहरीके तहफ़्फ़ुज़े सुन्नियत के बदायूं जिला अधयक्ष टी-टीएस मदरसा बरकातिया रज़विया बदायूं में मुफ़्ती अहसन रज़ा खान क़ादरी के पैगाम को सुनाया तहरीके तहफ़्फ़ुज़े सुन्नियत के जिला सदर मौलाना मो मंज़र हसन नूरी ने शहर के मुअज़्ज़िज़ उलमा व आइम्मा के साथ एक मीटिंग कर अपील की शादियों में बढ़ते गैर शरई कामों जैसे बेंड बाजे नाच गाने जहेज़ की मांग बढ़ती जा रही है। जिससे समाज की लड़कियों को मौत के घाट उतरना पढ़ रहा है। इससे मज़हबे इस्लाम के लोगों और सारे समाज को भी बचना चाहिए जिससे सारे समाज में बुराइयों से बचा जा सके। दरगाह आला हज़रत के सज्जादा नशीन अहसन रज़ा खान क़ादरी ने जो कदम उठाया है यह मिल्लते इस्लामियां के लिए कामियाबी ज़ामिन है। मीटिंग की सदारत फरमा रहे है। ख़लीफ़ए मज़हरुल उमलमा मौलाना मो सालिम मियां रज़वी बदायुनी ने फरमाते हुए कहा गैर शरई रस्मों रिवाज की वजहा से शादियों में फसाद बरपा हो रहा है। जिसका खामियाजा ता नस्लों को भरना पड़ेगा तमाम मस्जिदों के इमाम और उलमाए इकराम ने अपने अपने तासुरात का इज़हार किया और वादा किया की जिस शादी में गैर शरई काम काज रस्मों रिवाज होंगें तब उस शादी में निकाह नहीं पढायेंगें।


मदरसा बरकातिया रज़ाबिया से मुनसलिक मस्जिदों आईम्मा के अलावा शहर व गांव कस्वों के इमामों ने शिरकत फरमा कर मुफ़्ती अहसन रज़ा क़ादरी के पैगाम को अमली जामा पहनाने की कसम खाई मीटिंग में जो इमाम उपास्थि रहे। हाफिज इखलास, नुरुल हसन रज़वी, हाफिज मोहम्मद इमरान रज़ा, हाफिज ज़हीर उद्दीन, हाफिज मोहम्मद ताज रज़ा, हाफिज मोहम्मद अकरम, हाफिज गुलामगोस अशरफी, हाफिज मोहम्मद राहत रज़ा मज़हरी, हाफिज शादाब रज़ा, हाफिज मोहम्मद सोहेल रज़ा, हाफिज मोहम्मद दानिश क़ादरी, और हाफिज सिब्ते अली समेत इमाम उपस्थित रहे।

  • Facebook
  • Twitter
  • YouTube
© Copyright ® All rights reserved Nation Buzz 2017 - 2020