• Nationbuzz News Editor

संचारी रोगों पर नियंत्रण हेतु फाॅगिंग मशीन को समय पर प्रयोग किया जाए, डीएम


बदायूं। ग्राम प्रधानों के सहयोग से सरकारी विद्यालयों को माॅडल विद्यालय का रूप दिया जाएगा, वहीं निष्क्रिय स्वास्थ्य उपकेन्द्रों को क्रियाशील करते हुए एएनएम की तैनाती की जाएगी। बुधवार को कलेक्ट्रेट स्थित अटल बिहारी वाजपेयी सभागार में जिलाधिकारी कुमार प्रशान्त, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार त्रिपाठी ने अलग-अलग बैठकें कर ब्लाॅक म्याऊँ, वज़ीरगंज, उसावां, कादरचैक एवं सहसवान के ग्राम प्रधानों से विकास कार्याें में सहयोग करने का आवाहन किया। उन्होंने कहा कि रोगी कल्याण समिति एवं अनटाएड फंड से स्वास्थ्य उपकेन्द्रों की मरम्मत आदि कराकर क्रियाशील किया जाए।


संचारी रोगों पर नियंत्रण हेतु फाॅगिंग एवं स्पे्र मशीन को समय-समय पर प्रयोग किया जाए। गंदा पानी गढ्डों में एकत्रित न होने दें। आयुष्मान भारत मिशन के तहत गोल्डन कार्ड बनवाने में सहयोग करें। सरकारी विद्यालयों में बाउंड्री वाॅल सहित रंगाई-पुताई, टाइल्स तथा रनिंग वाटर की व्यवस्था कर विद्यालय को माॅडल बनाया जाए। बैठक में वाल विकास, प्रोबेशन, पंचायत राज, स्वास्थ्य, मनरेगा, शिक्षा आदि विभागों के अधिकारियों ने अपने-अपने विभाग की योजनाएं बताते हुए सहयोग की अपील की है। डीएम ने कहा कि उनकी मंशा है कि ग्रामीण अंचलों में योजनाओं का सही क्रियान्वयन हो। ग्राम प्रधानों से अपील की कि शरारती तत्वों के सम्बंध में प्रशासन को सूचना दें। शान्ति एवं कानून व्यवस्था के बनाए रखने में सभी का सहयोग अपेक्षित है, यदि इसको बिगाड़ने का प्रयास किया गया तो ऐसे लोगों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने कहा कि गांव के छोटे-छोटे झगड़ों को आपसी समझौते के आधार पर निपटा लिया करें। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी निशा अनंत, सीएमओ डाॅ0 यशपाल सिंह सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।