• nationbuzz3

गंगाघाट को पर्यटन स्थल बनाने मुहिम तेज केंद्रीय राज्यमंत्री बीएल वर्मा की अधिकारियों के साथ बैठक


यूपी बदायूं। गंगाघाट को पर्यटन स्थल बनाने की मुहिम तेज हो गई है अपनी मनोकामनाएं लेकर माँ के पास लोग दूर-दूर से आते हैं, यहां स्नान करते हैं, पूजा, आरती करके प्रसाद ग्रहण करते हैं। विगत वर्षां में बनारस की तर्ज पर गंगा आरती भी प्रारम्भ की गई, रंग बिरंगी लाइट्स के बीच गंगा आरती का मन मोह लेने वाला दृश्य किसी भी व्यक्ति को जीवन भर याद रहेगा, इसको देखने पुल पर राह चलते लोग भी रुक जाते हैं। इसकी भव्यता को देखने के लिए दूर-दराज से लोग आते हैं।


भारत सरकार के सहकारिता एवं उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास राज्यमंत्री बीएल वर्मा ने जिलाधिकारी दीपा रंजन, मुख्य विकास अधिकारी ऋषिराज एवं भाजपा जिलाध्यक्ष राजीव कुमार गुप्ता एवं अन्य सम्बंधित अधिकारियों के साथ कछला स्थित गंगा भागीरथी घाट पहुंचकर इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए अपनी मंशा जाहिर की।


मंत्री ने कहा कि मेरे ऊपर गंगा मैया का आशीर्वाद रहा है। मुझे यहां से बहुत लगाव रहा है। हरिद्वार और काशी की तर्ज पर यहां आरती होती है बरसात के दिनों में आरती में श्रद्धालुओं को दिक्कत होती थी। मैंने अपनी राज्यसभा निधि से भी श्रद्धालुओं के लिए आरसीसी की छत की व्यवस्था की है जिसका 26 तारीख को उसका शिलान्यास होगा मेरे मित्र एवं पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह से जब मैंने आग्रह किया तो उन्होंने एक टीम बरेली से भेजी है डीएम सीडीओ एवं संबंधित अधिकारियों के साथ चर्चा हुई कि यहां क्या-क्या किया जा सकता है। उस की डीपीआर भी तैयार की जा रही है।


स्थानीय लोगों का सुझाव लिया जा रहा है कि फर्स्ट फेस में हम क्या क्या कर सकते हैं। कछला एक अच्छा तीर्थ स्थल बने लाखों की तादात में लोग यहां गंगा स्नान करने आते हैं। सावन के महीने में लाखों की संख्या में लोग यहां आते हैं जिस दौरान मार्गों को भी डायवर्ट कर दिया जाता है डीएम सहित पूरा प्रशासन इसमें हमारा सहयोग करता है। पर्यटन विभाग के अधिकारी यहां मौजूद हैं जल्द ही यहां एक अच्छा पर्यटन स्थल देखने को मिलेगा।

डीएम ने कहा कि कछला का जो ऐतिहासिक पौराणिक महत्व है जिसके लिए श्रद्धालु दूरदराज से यहां आते हैं उसको दृष्टिगत रखते हुए इस पूरे क्षेत्र में पर्यटन की जो असीम संभावना है उसको कैसे साकार किया जाए। कैसे लोगों को अधिक से अधिक सुविधा प्रदान करते हुए इसे कैसे एक सुंदर पर्यटन स्थल में विकसित किया जाए इसके लिए मंत्री एवं पर्यटन विभाग के अधिकारी एवं अन्य विभागीय अधिकारियों के साथ चर्चाएं की है और शीघ्र ही डीपीआर बनाकर इसको मूल रूप प्रदान करेंगे।