• nationbuzz3

अब और महंगा हुआ घर बनाना, 20 दिन में 12 रुपये प्रति किलो तक बढ़ गए सरिया के दाम


यूपी बदायूं। बीस दिन पहले 63 से 65 रुपये किलो बिकने वाले सरिया के रेट दस से 12 रुपये प्रति किलो बढ़ गए हैं। सरिया महंगी होने की वजह से इसके खरीदार बाजारों में बेहद कम आ रहे हैं। अधूरे निर्माण कार्य को ठेकेदार मजबूरी वश पूरा करा रहे हैं, जबकि नये निर्माण कार्य शुरू करने में रुचि नहीं ले रहे हैं। इससे सस्ते मकान का सपना संजोने वाले लोगों का इंतजार और बढ़ गया है। जिले में जहां दस हजार टन सरिया की खपत प्रतिमाह हो जाती है, उसमें काफी गिरावट आई है। इसके पीछे कुछ विक्रेता रूस और यूक्रेन को महंगाई का जिम्मेदार मान रहे हैं तो कुछ जमाखोरी को। सरिया पर आई इस महंगाई के बारे में जानते हैं, बदायूं के थोक एवं फुटकर सरिया विक्रेताओं के मन की बात।


क्‍या बोले दुकानदार: सरिया पर आई इस महंगाई से बाजार पूरी तरह से चौपट हो गया है। दुकानों पर ग्राहक नजर नहीं आ रहे हैं। यह सब सट्टा बाजार की हेरा-फेरी की वजह से तेजी हुई। डीजल की वजह से दामों में कोई अंतर नहीं आया है। ऐसे में सरिया के रेट बढ़ने पर डीजल की महंगाई को भी दोषी नहीं ठहरा सकते हैं।

थोक सरिया विक्रेता


बड़ी कंपनियां सरिया के रेट बढ़ा रही हैं। उनकी देखा-देखी छोटी कंपनियों ने भी सरिया के रेट काफी हद तक बढ़ा दिए हैं। इससे सरिया में करीब 10 रुपये की महंगाई बीते 20 दिनों में आ गई है। इस वजह से बाजार में सरिया की डिमांड काफी कम हो गई है। इससे दुकानदारों को नुकसान हो रहा है।

सरिया विक्रेता


सरिया महंगी होने से निर्माण कार्य प्रभावित हो रहे हैं। बीते डेढ़ साल में सरिया 45 से 75 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गई है। 30 रुपये किलो का अंतर आने से जिन साइट पर काम चल रहा है उनकी लागत काफी बढ़ गई है।