• nationbuzz3

मोबाइल पर आएगा ओटीपी, तब मिलेगा राशन, नई व्यवस्था में मोबाइल नंबर फीड कराया जा रहा है


यूपी बदायूं। सार्वजनिक वितरण प्रणाली में गरीबों को सस्ता खाद्यान्न उपलब्ध कराया जा रहा है। ई-पास से वितरण हो रहा है। लेकिन, अब भी जिले में सैकड़ों लोग ऐसे हैं जो पात्र तो हैं, लेकिन ई-पास मशीन में उनका डाटा फीड नहीं होने या आधार कार्ड नहीं होने से परेशान होते हैं। ऐसे परिवारों को हर माह प्रॉक्सी से उनकी पहचान के आधार पर राशन का वितरण होता है। नई व्यवस्था में उनका मोबाइल नंबर फीड कराया जा रहा है। राशन लेने जब वह कोटे की दुकान पर जाएंगे, तो उनके मोबाइल पर ओटीपी आएगा। उसी के आधार पर उन्हें राशन मिलेगा।


जिले की त्रिस्तरीय राशन वितरण प्रणाली प्रदेश स्तर पर नजीर बन चुकी है। कोटेदार के गोदाम तक खाद्यान्न पहुंचाने को डोर स्टेप डिलीवरी भी लागू है। जिले में पात्र गृहस्थी के 4,64,032 राशन कार्ड, अंत्योदय कार्डधारकों की संख्या 44,561 है जबकि 2,528 प्रवासियों के भी राशन कार्ड बने हैं। प्रति माह 450 से 500 लोगों को प्राक्सी से राशन वितरण होता है। इसके नाम पर कोटेदार घपला भी करते रहे हैं। शासन स्तर से की जा रही नई व्यवस्था से अब इस समस्या का भी निदान हो जाएगा। चिह्नित लोगों के मोबाइल नंबर फीड होने से अब उन्हें मोबाइल लेकर पहुंचने पर ही राशन मिल सकेगा। विभाग के अफसरों ने सभी कोटेदारों को दिशा निर्देश जारी किए हैं।


फैक्ट फाइल

पीएचएच राशनकार्ड धारकों की संख्या - 4,64,032


अंत्योदय कार्डधारकों की संख्या - 44,561


प्रवासी कार्डधारकों की संख्या - 2,524


हर महीने ई-पास से राशन वितरण के बाद भी एक दिन प्राक्सी विधि से गरीबों को राशन वितरण होता है। अब ऐसे लोगों के मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड हो जाएंगे। सभी को पता रहेगा कि जिले में मोबाइल पर ओटीपी से कितने परिवारों को राशन दिया जा रहा है। यह डाटा अपने आप विभाग के सर्वर पर पहुंच जाएगा।


रामेंद्र प्रताप सिंह, जिला पूर्ति अधिकारी

  • Facebook
  • Twitter
  • YouTube