• nationbuzz3

डेंगू से मचा हाहाकार ज़ीका वायरस का प्रकोप और शहर में व्यापक गंदगी, हड़ताल जारी


यूपी बदायूं। जानलेवा डेंगू का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब कक्षा छह के छात्र की बरेली के निजी अस्पताल मौत हो गयी है। गांव में कई लोगों को बुखार है, परिवार का कहना है कि अचानक बुखार आया। इसके बाद जांच कराई तो डेंगू की पुष्टी हुयी। सफाई कर्मचारियों की हड़ताल के कारण शहर में गंदगी के कारण पहले से ही दुर्दशा थी। शहर में सुभाष चौक, गद्दी चौक, पनबड़िया, टिकटगंज, मीराजी चौकी, वेदों टोला, मौलवी टोला, कबूल पूरा, मोहल्ला हकीम गंज, जफा की कोठी, पीली कोठी आदि स्थानों पर शहर में तमाम स्थानों पर कूड़े के ढेर लगे हुए हैं पानी भी सड़कों पर बह रहा है।


इधर शहर के मोहल्ला नेकपुर और दूसरा कादरचौक ब्लाक के गांव इस्माइलपुर में डेंगू निकला है। 10 महीने पहले नगर पालिका की कमान शासन से ईओ को दे दी गई लेकिन इस बीच में नगर पालिका की सफाई व्यवस्था से लेकर विकास कार्य सभी पटरी से उतर गये। अब फिर से बेपटरी व्यवस्था को संभालने के लिये सिटी मजिस्ट्रेट को दे दिया गया है। पिछले दिनों तो शासन से एसडीएम को चार्ज दे दिया था लेकिन एसडीएम नगर पालिका की व्यवस्था नहीं संभाल पाये तो सिटी मजिस्ट्रेट को चार्ज दिया गया है। इधर सफाई कर्मियों की हड़ताल 12वें दिन भी जारी रही। शहर में कूड़े के हर गली मोहल्ला व बाजारों में ढेर लगे रहे।


शहर नगर पालिका में ईओ की तैनाती न होने की वजह से फिर से चार्ज सिटी मजिस्ट्रेट अमित कुमार को दे दिया गया है। इससे पहले एसडीएम सदर पर शासन ने चार्ज दे रखा था लेकिन वहां एक तो तबादला नीति के बाद एसडीएम की तैनाती नहीं हो पा रही थी दूसरा यहां कामकाज नहीं संभाल पा रहे थे। मगर सिटी मजिस्ट्रेट पहले ईओ का कार्य देख चुके हैं इसलिये फिर से डीएम दीपा रंजन ने सिटी मजिस्ट्रेट को ईओ नगर पालिका का अतिरिक्त कार्यभार भी दे दिया है। अब नगर पालिका की व्यवस्थायें बदलने की उम्मीद है। फिलहाल सिटी मजिस्ट्रेट के लिये कर्मचारियों को काम पर लौटाना चुनौती रहेगी। सफाई कर्मचारियों ने दीपावली का त्योहार और भैयादूज का त्योहार धरना स्थल पर निकाल दिया है।


कर्मचारी नेता बोले- कोई तो वादा पूरा करे पालिका प्रशासन

उत्तर प्रदेशीय सफाई मजदूर संघ के नगर महासचिव लव कुमार ने बताया कि सेवानिवृत्त कर्मचारियों के देय भुगतान जैसे अर्जित अवकाश, बीमा, एसीपी का एरियर समेत अन्य मांग शामिल हैं। बताया कि पिछले दिनों नगर पालिका पहुंचे प्रशासनिक अधिकारी से लेकर पालिकाध्यक्ष ने हम लोगों की बातों को सुना था, उन्होंने कुछ मांगों को पूरा करने की बात कही। इनमें बोनस और अक्तूबर माह के वेतन की भी बात शामिल थी। पालिका की ओर से अक्तूबर माह का जो वेतन दिया गया है उसमें भी छह दिन का वेतन कम है। वहीं बोनस देने की बात थी जो अब तक नहीं मिल सका है।