• nationbuzz3

कोविड टीकाकरण को लेकर भ्रम में न आएं लोग एक-एक व्यक्ति का हिसाब रखा जाए. डीएम


यूपी बदायूं। कोरोना वायरस के नियंत्रण करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से गांवों में कितनी सक्रियता है, इसकी जमीनी हकीकत परखने के लिए डीएम ने डीपीआरओ, एसडीएम सदर के साथ कई गांवों का निरीक्षण किया। साथ ही ग्रामीणों से वार्ता की। वहीं ग्रामीणों को टीकाकरण के लिए प्रेरित किया।


शुक्रवार को डीएम दीपा रंजन ने जिला राज पंचायत अधिकारी डॉ. सरनजीत कौर, एसडीएम सदर लाल बहादुर के गांवलखनपुर व आमगांव पहुंचीं। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगाए टीकाकरण शिविर व ऑब्जर्वर रूम का जायजा लिया। उन्होंने आशा व आंगनबाड़ी से कोरोना संक्रमण के तहत घर-घर जाकर सर्वे करने व किट के वितरण के संबंध में जानकारी ली। आशाओं ने डीएम को बताया कि गांव में घर-घर जाकर परिवार के प्रत्येक सदस्य से स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली जा रही है। उनसे पूछा जा रहा है कि परिवार में किसी सदस्य खांसी, नजला, बुखार, सांस लेने में दिक्कत, स्वाद में कमी सीने में दर्द जैसी समस्याएं तो नहीं है। पल्स ऑक्सीटर से उनकी जांच भी की जा रही है।


डीएम ने आशाओं को निर्देश दिए कि यदि किसी व्यक्ति में कोविड-19 के लक्षण प्रतीत होते हैं, तो उसे तत्काल आइसोलेट कर उनकी जांच कराके व किट उपलब्ध करा दें। डीएम ने कहा कि टीकाकरण को लेकर किसी तरह के भ्रम में न आएं, टीकाकरण से आप और आपके परिवार दोनों का लाभ है। किसी भी प्रकार की अफवाह को न फैलाएं और न ही फैलने दें।


एक-एक वोटर का हिसाब रखा

- डीएम ने प्रधानों की जिम्मेदारी तय करते हुए कहा कि जैसे आप लोगों ने मतदान के दौरान एक-एक वोटर का हिसाब रखा था कि किसने वोट डाला, किसने नहीं डाला। कैसे उन्हें बुलाया जाए और मतदान कराया जाए। ठीक वैसे ही यहां पर भी अपनी भागेदारी तय करनी होगी। पहले खुद और परिवार के सदस्यों के टीका लगवाएं। उसके बाद में एक-एक व्यक्ति का हिसाब रखा जाए। जिस व्यक्ति को टीका नहीं लगवाया है। उसको टीका लगवाया जाए।