• nationbuzz3

आरोपित नेता रहे सर्वेश यादव की संपत्ति पुलिस ने सील करना शुरू कर दिया गया है


यूपी। बदायूं सर्वेश यादव की संपत्ति पुलिस ने शुक्रवार को कुर्क कर ली। सपा नेता के खिलाफ उन्ही की सरकार में हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ। इस मामले में वह जेल में रहे। फिर उनके ऊपर उनके भाई की भी हत्या का आरोप लगा तो पुलिस ने उन पर गैंगस्टर की कार्रवाई की।


बिल्सी के गांव वैन के निवासी सपा नेता के आवास विकास कालोनी स्थित आवास पर तहसील प्रशासन व सिविल लाइन पुलिस पहुंची। संयुक्त टीम ने उनके आवास को सील किया। सपा नेता की पत्नी विजेता यादव अंबियापुर ब्लॉक से प्रमुख हैं। अब उनके गांव की संपत्ति कुर्क करने की तैयारी है। वर्ष 2017 में सिविल लाइंस थाना क्षेत्र में हुए अंकुर हत्याकांड का मुकदमा सपा युवजन सभा के पूर्व जिलाध्यक्ष सर्वेश यादव व उनके साथियों पर दर्ज हुआ। इस मामले में पुलिस जब तक आरोपित की गिरफ्तारी करती तब तक सर्वेश यादव के भाई की भी हत्या हो गई। इसमें सर्वेश ने अंकुर के स्वजन को आरोपित बनाया। इसकी पड़ताल में जुटी पुलिस को साक्ष्य मिले कि सर्वेश अपने भाई की हत्या में भी शामिल है। पुलिस ने हत्या के दोनों मामलों में सर्वेश को गिरफ्तार कर जेल भेजा। फिर पुलिस ने 19 नवंबर वर्ष 2017 को सर्वेश यादव के खिलाफ गैंगस्टर का मुकदमा दर्ज किया। गैंगस्टर में सर्वेश के साथी धीरू यादव निवासी गांव खैरी, प्रेमसिंह निवासी सिद्धपुर थाना बिल्सी को भी आरोपित बनाया। जमानत मिलने के बाद सर्वेश ब्लॉक प्रमुख पत्नी विजेता यादव के साथ कार्यक्रमों में दिखाई देने लगे। पुलिस ने उसकी अर्जित संपत्ति का आंकलन शुरू किया। फिर शुक्रवार को पुलिस पूरी तैयारी के साथ आवास विकास स्थित उनके आवास को सील किया।

गैंगस्टर के नाम दो करोड़ 83 हजार पांच सौ 34 रुपये की संपत्ति


सर्वेश यादव के नाम पर दो करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति का आंकलन हुआ है। पुलिस ने अपनी कार्रवाई में लिखा है कि गैंगस्टर ने जनता में भय बनाकर यह संपत्ति अर्जित की है। सपा नेता के घर में रह रहे भाजपा के जिला मीडिया प्रभारी, सामान फंसा पुलिस ने सपा नेता के आवास के मुख्य गेट पर सरकारी ताला डालकर उसको सील किया। इस दौरान चौंकाने वाली बात सामने आई। पता चला कि सपा नेता के घर में भाजपा के नव नियुक्त जिला मीडिया प्रभारी आशीष शाक्य रहते हैं। उनका सामान भी घर में बंद है। मीडिया प्रभारी ने पुलिस को बताया कि वह इस घर में किराए पर रहते हैं। उनका सामान बाहर निकाल दिया जाए। मगर पुलिस ने न्यायालय का मामला बताकर घर में से कोई सामान बाहर न निकालने की बात कही।


सर्वेश यादव पर अंकुर हत्याकांड के अलावा उसके सगे भाई की हत्या का मामला दर्ज हुआ था। इसी बीच गैंगस्टर की कार्रवाई की गई थी। उनके आवास विकास वाले मकान को कुर्क किया है। कार्रवाई के बाद सूचना मिली कि गैंगस्टर के घर में भाजपा के जिला मीडिया प्रभारी का भी सामान था।

सुधाकर पांडेय, एसएचओ सिविल लाइंस