• nationbuzz3

एंबुलेंस कर्मचारियों की शुरू हो गई भर्ती एंबुलेंस चलाकर हुनर की परीक्षा, घूस लेने के आरोप


यूपी बदायूं। एंबुलेंस कर्मचारियों द्वारा की गई हड़ताल को लेकर हैदराबाद की कार्यदायी संस्था जीबीकेइएमआरआई ने कड़ा रूख अपनाया है। कार्यदायी संस्था ने शनिवार को पुलिस लाइन ग्राउंड में एंबुलेंस चालक परिचालकों के लिए नई भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी। यहां सैकड़ों अभ्यर्थियों ने चयन प्रक्रिया के तहत एंबुलेंस चलाकर अपने हुनर की परीक्षा दी है। इधर, इस चयन प्रक्रिया पर जीवन दायिनी स्वास्थ संघ के जिला अध्यक्ष ने कार्यदायी संस्था और पदाधिकारियों पर घूस का आरोप लगाया है।


एएलएस समायोजन को लेकर पांच दिन तक जिले के सभी एंबुलेंस कर्मचारी धरने पर बैठ गए। इस बीच दो दिन तक कर्मचारियों ने सभी एंबुलेंस को बंधक बनाकर धरना स्थल पर खड़ा दिया था। जिससे जिले में हाहाकार मच गया। दो दिन तक जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अग्राह के बावजूद धरना प्रदर्शन समाप्त नहीं हो सका। जिसके बाद जिला प्रशासन ने कर्मचारियों से सभी एंबुलेंस वापस ले ली और प्राइवेट चालक परिचालकों को हायर कर उन्हें सौंप दी। जिसके बाद बैकफुट पर पहुंचे कर्मचारियों ने धरना प्रदर्शन खत्म कर दिया। कार्यदायी संस्था ने इस बीच 11 कर्मचारियों को बर्खास्त भी कर दिया। अभी कुछ कर्मचारी वापस एंबुलेंस पर लौट आए है तो कुछ लखनऊ में चल रहे धरने में शामिल हो गए। इसे देखते हुए कार्यदायी संस्था ने नए चालक व परिचालकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी। पुलिस लाइन ग्राउंड में सैकड़ों अभ्यर्थियों को बुलाया गया। जहां उनका इंटरव्यू लेने के साथी ही ड्राइविंग की कार्यकुशलता देखी गई। शाम तक चयन प्रक्रिया चलती रही है। इस संबंध में एंबुलेंस प्रभारी रोहित यादव ने बताया कि कंपनी द्वारा यह फैसला लिया गया है। चालक और परिचालकों की नई भर्ती के लिए चयन प्रक्रिया शुरू की गई है। जीवन दायिनी स्वास्थ्य संघ के जिला अध्यक्ष दिनेश यादव का आरोप है कि चयन प्रक्रिया में कार्यदायी संस्था के पदाधिकारियों भारी मात्रा में घूस ले रहे है। एक-एक अभ्यार्थी से बीस से तीस हजार रूपये लिए जा रहे है। यहां उन्हीं अभ्यार्थियों का चयन होगा जोकि यह घूस दे पाएगा।