• nationbuzz3

शब ए बारात, मगफिरत और गुनाहों से पाक होने छुटकारे की बड़ी बा बरकत अज़ीम रात आज


यूपी बदायूं नेशन बज़। पवित्र माह रमज़ान के पहले आठवें महीने शाबान की 15 वीं तारीख को शब-ए-बरात के नाम से जाना जाता है। यह रात भारत में आज शनिवार को मनाई जाएगी तो वही दूसरे मुल्कों में कल मनाई जाएगी यह बहुत अज़ीम और इबादत की रात है साथ ही दिन में रोजा रखने को भी कहा गया है। इस दिन रोजा रखकर इंसान इबादत और कुरआन की तिलावत में गुजार दें और जाने-अंजाने में किए गए गुनाहों का पश्चाताप करते हुए साफ दिल से तौबा करे तो उसके सब गुनाह माफ हो जाते हैं। इस रात में इंसान अपने एक साल के किए गए कार्यों का भी जायजा लेता है।


मौलाना ने बताया कि इस दिन सूर्यास्त से सूर्योदय तक रहमतों की बारिश होती है। शब-ए-बरात को दिन में रोजा रखने व रात में इबादत करने वालों के हर गुनाह माफ कर दिए जाते हैं। यह रात को बुजुर्गी, रहमत और बरकत वाला भी बताया गया है। मगरिब की नमाज़ के बाद नवाफिल की तरकीब रिज़्क़ कुशादा उम्र में बरकत इन नवाफिल की एहम अहमियत।


इस रात में कब्रिस्तानों में जाकर इसाले सवाब और दुआ भी की जाती है। एक हदीस में आता है कि शब-ए-बरात की रात नबी मुहम्मद साहब ने मदीने की कब्रिस्तान में जाकर पूर्वजों के लिए बक्शीश की दुआ मांगी थी। इस रात में खुदा फरमाता है कि है कोई बक्शीश मांगने वाला, है कोई रोजी मांगने वाला जिसको मैं रोजी दे सकूं।


क्या कोई मुसीबत जदा है, जिसको मैं मुसीबत से दूर कर दूं। जब बंदा अपने गुनाहों के लिए रोता है और आइन्दा गुनाह न करने की कसम खाता है। तब अल्लाहतआला उसके सब गुनाह माफ कर देता हैं। वहीं जो लोग इस रात को सो कर गुजार देते हैं और इबादत नहीं करते हैं। वह मगफिरत से महरूम हो जाते हैं।

  • Facebook
  • Twitter
  • YouTube
© Copyright ® All rights reserved Nation Buzz 2017 - 2020