• Nationbuzz News Editor

UP: कानपुर एनकाउंटर में इस पुलिस वाले पर मुखबिरी का शक, पहले ही कर ली गयी थी प्लानिंग


यूपी। देश समेत पूरे प्रदेश को हिलाकर रख देने वाली कानपुर की घ’टना में पु’लिस के खि’लाफ मुख’बिरी का शक शुरू से ही हो रहा है. कई ऐसी बातें हैं जो सवाल खड़े कर रही हैं. मसलन, जेसीबी से रास्ते बंद करना, गाँव में पहुँचते ही तमाम स्ट्रीट लाइटों का बंद हो जाना, पु’लिस बल पर एकदम हम’ला होना ऐसी कई बातें हैं जो मुख’बिरी के श’क को पुख्ता करती हैं. बिकरू गांव में पु’लिस पर हुए भयं’कर हम’ले में चौबेपुर था’नेदार विनय तिवारी की भूमिका सं’दि’ग्ध लग रही है, जिन्हें तत्काल स’स्पेंड कर दिया गया है. पहले था’नेदार ने विकास दुबे पर रिपोर्ट दर्ज न कर पी’ड़ित राहुल को भगा दिया था. इसके बाद सीओ ने रिपोर्ट दर्ज कराई और गिर’फ्तारी के लिए दबिश दी. दबिश में था’नेदार तिवारी गए तो ज़रूर लेकिन पीछे-पीछे रहे और ह’मले से ठीक पहले वहां से भाग निकले. इससे वे शक के घेरे में आ गए हैं.


मोहिनी नेवादा निवासी राहुल तिवारी ने दो दिन पहले चौबेपुर था’ने में विकास दुबे के खि’लाफ ह’त्या के प्रयास का आ’रोप लगाकर तह’रीर दी थी. आरो’प है कि एसओ विनय तिवारी ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की. जानकारी होने पर सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा ने रिपोर्ट दर्ज कराई. इसी के’स में विकास दुबे को उठाने के लिए आला अधिकारियों की अनुमति पर पु’लिस ने द’बिश दी. कुछ महीने पहले सीओ ने चौबेपुर क्षेत्र में बड़ा जु’आ पकड़ा था. मामले में सीओ ने जांच की थी तो पता चला था कि जुआ खिलाने के बदले रकम था’नेदार तक पहुंचती है. जिसके बाद उन्होंने उसके खि’लाफ रिपोर्ट लगाई थी. ऐसे कई मामले हैं, जिनकी वजह से सीओ और एसओ के बीच विवा’द रहता था. दोनों एक दूसरे से असहमत रहते थे. मामले में जांच के आदेश हुए हैं. कहां पर किसकी चूक रही है या इसमें कोई साजि’श है, इसका पता जांच में चल जाएगा. उसी आधार पर कार्र’वाई होगी।


जमीन पर क’ब्जे को लेकर जादेपुर गस्सा गांव निवासी राहुल तिवारी ने चौबेपुर एसओ विनय तिवारी से शिका’यत की थी. इस संबंध में एसओ बुधवार को विकास दुबे से पूछताछ करने उसके घर गए थे. पूछताछ के दौरान ही विकास ने एसओ से हाथा’पाई कर दी थी. उस वक्त एसओ वहां से वापस चले गए थे. गुरुवार को पु’लिस ने राहुल की तह’रीर पर विकास के खि’लाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली. राहुल के अनुसार विकास दुबे ने उसके ससुर लल्लन शुक्ला की जमीन जब’रन अपने नाम बैनामा करा ली थी. इसे लेकर उन्होंने विकास के खि’लाफ को’र्ट में मुक’दमा भी दा’यर किया था. इसी मुक’दमे को वापस लेने का दबाव बनाने के लिए विकास दुबे, सुनील, बाल गोविंद, अमर दुबे, शिवम दुबे ने एक जुलाई को उसे बं’धक बना कर पी’टा था।


पुलिस के हत्थे चढ़ा विकास दुबे का साथी दयाशंकर, कर रहा है चौंकाने वाले खुलासे, राज्य सरकार ने विकास दुबे पर घोषित इनाम 50 हजार से बढ़ाकर एक लाख कर दिया है।

  • Facebook
  • Twitter
  • YouTube