• Nationbuzz News Editor

समय सीमा खत्म अब कलेक्ट्रेट के बाहर चलेगी जेसीबी, दुकानदारों की रोज़ी रोटी पर खतरा


यूपी बदायूं। फुटपाथ पर बनी दुकानें अभी तक नहीं टूटी हैं अब उन पर प्रशासन की जेसीबी चलेगी। डीएम के कहने के बाद तथा समय देने के बाद भी दुकानदारों ने नहीं तोड़ा है। डीएम का दिया गया समय पूरा हो गया है अब प्रशासन ने जेसीबी से तोड़ने की तैयारी कर ली है। प्रशासन जेसीबी चलाकर दुकानों को तोड़ डालेगा। इसके लिए जिला प्रशासन ने एसपी सिटी से फोर्स मांगा है, जल्द ही फोर्स मिलते ही एक-दो दिन में दुकानें तोड़ दी जाएंगी। जिससे दुकानदारों की रोज़ी रोटी पर बड़ा असर पड़ेगा।


बुधवार को सिटी मजिस्ट्रेट अमित कुमार ने एसपी सिटी प्रवीन चौहान को पत्र लिखा है, जिसमें अतिक्रमण तोड़ने के लिए सिटी मजिस्ट्रेट ने एसपी सिटी से फोर्स मांगा है। सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि कलक्ट्रेट के बाहर बनी दुकानों को जेसीबी से तोड़ा जाएगा। बतादें कि पिछले महीने के अंत में प्रशासन ने कचहरी लालपुल मार्ग पर जेसीबी चलवाकर अतिक्रमण गिराया था। इस दौरान जेसीबी कलक्ट्रेट के बाहर भी दुकानों का अतिक्रमण तोड़ने को लाई गई थी, जिस पर दुकानदारों ने डीएम से वार्ता की थी, डीएम ने तीन दिन का समय दुकानदारों को स्वयं तोड़ने को दिया था, मगर दुकानदारों को आज पंद्रह दिन से ज्यादा हो गए हैं इसके बाद भी दुकानें नहीं तोड़ा है। अब आश्वासन का समय पूरा हो गया है डीएम ने सिटी मजिस्ट्रेट से अतिक्रमण तोड़ने के निर्देश दिए हैं। सिटी मजिस्ट्रेट का कहना है कि दो चार दिन में अतिक्रमण को तोड़ दिया जाएगा। दुकानदार प्रशासन के निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं इसलिए मजबूरी में कार्रवाई करनी पड़ रही है। बतादें कि बरेली-मथुरा हाईवे का चौड़ीकरण हो रहा है, जिसकी बारी अब शहर के अंदर आई है। इसकी वजह से शहर के अंदर अतिक्रमण हटाया जा रहा है। वहीं बुधवार को पीडब्ल्यूडी के अफसरों ने चौड़ीकरण मार्ग की नपत की है।


कलक्ट्रेट के बाहर दुकानें गलत तरीके से बनी हैं, अधिकांश हिस्सा रोड़ के फुटपाथ पर है इनको तोड़ने के दौरान डीएम ने आश्वासन दिया था वह समय पूरा हो गया है। डीएम ने कहा अब यह लोग नहीं तोड़ रहे हैं तो जेसीबी से तुड़वा दी जाएं। एसपी सिटी से फोर्स मांगा है, फोर्स मिलते ही तुड़वा देंगे।


अमित कुमार, सिटी मजिस्ट्रेट

  • Facebook
  • Twitter
  • YouTube
© Copyright ® All rights reserved Nation Buzz 2017 - 2020