• nationbuzz3

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर हर दिन तेजी पकड़ रही है लेकिन न मानेंगे लोग न खत्म होगा वायरस


यूपी बदायूं। जिले में लोग जहां एक ओर वैक्सीनेशन करा रहे हैं। वहीं तमाम लोग ऐसे भी हैं जो कोरोना से डर को खत्म कर चुके हैं। यह दीगर बात है कि खुद संक्रमित होकर अपने परिवार को भी आफत में डाल लें लेकिन बाजार में घुसने समेत सामाजिक दूरी की गाइडलाइन को दरकिनार करने से नहीं चूक रहे। एक मास्क जरूर लगा लेते हैं लेकिन वो भी कभी थोढ़ी पर दिखता है तो कभी नाक खुली रहती है। कुल मिलाकर जुर्माने से बचने के लिए डर के कारण यह प्रक्रिया अपनाई जा रही है लेकिन जिक्र जागरूकता का करें तो यहां की पब्लिक खुद कोरोना को दावत दे रही है।


नेहरू चौक पर लोगों ने नहीं रखी मार्यादा


स्थान : नेहरू चौक बाजार


शहर के नेहरू चौक पर सैकड़ों की भीड़ बुधवार को देखी गई। सामाजिक दूरी की गाइडलाइन बनाई भी गई है, यह भीड़ को देखकर नहीं लग रहा। हर कोई अपनी धुन में व्यस्त दिख रहा है। नतीजतन हालात दिनोंदिन खराब होते जा रहे हैं लेकि न कोई मानने या सुनने को तैयार नहीं है।


बाजार में मास्क लगाने से भी परहेज


स्थान : नगर पालिका बाजार


शहर के नगर पालिका के पास स्थित बाजार में लोग खरीदारी को तो सड़क पर उतर आए लेकिन मास्क लगाने से गुरेज रख रहे थे। किसी को सामाजिक दूरी का ख्याल भी नहीं दिख रहा था। भीड़ एक-दूसरे पर चढ़ने को आतुर दिख रही थी।


गोपी चौक पर संभाले नहीं संभल रही भीड़


स्थान : गोपी चौक बाजार


शहर के खैराती चौक पर भी भीड़ का आलम यह था कि लोग संभाले नहीं संभल रहे थे। कोई किसी की सुनने को तैयार नहीं था। फिर कोई चाहें संक्रमित हो या साधारण लेकिन सब एक दूसरे के संपर्क में आते दिख रहे थे। गाइडलाइन का पालन करने के लिए कोई हरगिज तैयार नहीं है।


खैराती चौक पर हालत ज्यादा खराब


स्थान : खैराती चौक से हलवाई चौक बाजार


खैराती चौक व हलवाई बाजार के हालात भी काफी खराब होते जा रहे हैं। जहां व्यापारी ग्राहकों को खुलेआम कोविड गाइड लाइन का उल्लंघन करने को कह रहे हैं। वहीं ग्राहक भी खरीदारी में व्यस्त दिख रहे हैं। किसी भी स्तर पर हालात काबू होते नहीं दिख रहे हैं। रोजाना आ रही कोरोना रिपोर्ट भी इसी का प्रमाण है।


हर रोज हुजूम, सामाजिक दूरी भूले


स्थान : छह सड़का बाजार


शहर के व्यस्ततम इलाकों में शुमार घंटाघर और छह सड़का इलाकों में रोजाना की तरह बुधवार को भी भीड़ बेकाबू थी। कोई बिना मास्क के बाजार में घुस आया तो कोई मास्क लगाने के बाद भी खुद को सुरक्षित समझते हुए खरीदारी में जुटा दिखा।