• nationbuzz3

लॉकडाउन में दुकान खोलने पर दरोगा और भाजपा नेता में धक्का-मुक्की, हंगामा


यूपी बदायूं। उझानी में कोरोना कर्फ्यू में दुकान बंद कराए जाने को लेकर रविवार को दुकानदार और पुलिसकर्मियों के बीच विवाद हो गया। दुकानदार के बुलावे पर भाजपा नेता योगेश प्रताप सिंह भी मौके पर पहुंच गए। इस दौरान दरोगा खुर्शीद अहमद और भाजपा नेता में कहासुनी के बीच धक्का-मुक्की भी हो गई। इससे काफी देर तक हंगामा होता रहा। 


दोपहर में भाजपा नेता के साथ कई समर्थक कोतवाली पहुंचे और प्रभारी निरीक्षक को मामले से अवगत कराया। कोतवाल ने सभी को समझा बुझाकर शांत किया। दरोगा और भाजपा नेता योगेश प्रताप सिंह के बीच कहासुनी का मामला रविवार सुबह 11 बजे बिल्सी रोड मार्केट का है। मार्केट में एक व्यक्ति की मिठाई की दुकान है। दुकानदार के मुताबिक उसने सफाई करने के लिए दुकान का शटर खोला था, इसी दौरान मौके पर पुलिस आ गई। 


उन्होंने कहा कि पहले और दुकानों को बंद करा दीजिए। इसी बात पर कहासुनी हो गई। बात बढ़ने पर दुकानदार ने भाजपा नेता योगेश प्रताप सिंह को बुला लिया। भाजपा नेता ने एक ही दुकानदार को निशाना बनाए जाने का आरोप लगाया तो दरोगा खुर्शीद अहमद बिफर पड़े। उन्हें जबरन पुलिस के वाहन में डालने का भी प्रयास किया। कहासुनी के दौरान दरोगा और भाजपा नेता में धक्का-मुक्की हो गई। हंगामा होने पर पुलिस कोतवाली चली गई। करीब एक घंटा बाद भाजपा नेता और उनके समर्थक लोगों के साथ कोतवाली पहुंचे तो पुलिस से बहस हो गई। 


भीड़ में मौजूद दुकानदारों ने पुलिस पर मनमाने ढंग से कार्रवाई करने का आरोप लगाया। उनका कहना है कि सभी दुकानें बंद करा दी जाएं तो किसी को आपत्ति नहीं होगी। बहसबाजी के दौरान प्रभारी निरीक्षक विशाल प्रताप सिंह ने नियमानुसार कार्रवाई का भरोसा दिलाकर सभी को शांत किया। बता दें कि चार दिन पहले एक बाइक सवार का चालान काटे जाने को लेकर भी भाजपा नेता और दरोगा में कहासुनी का मामला सामने आया था। इधर, दरोगा खुर्शीद अहमद ने पक्षपात के आरोप को बेबुनियाद बताया।


पुलिस को बिल्सी रोड मार्केट में एक दुकान खुली मिली थी। दुकानदार से उसे बंद करने के लिए कहा गया तो कहासुनी हो गई। पुलिस ने किसी के भी साथ पक्षपात नहीं किया है। किराने की दुकानें 11 बजे तक खुलती हैं, बाकी को बंद रखने का आदेश है। उसी का पालन कराया जा रहा है।

विशाल प्रताप सिंह, प्रभारी निरीक्षक