• nationbuzz3

Urs E Razvi 2021 बरेली में लहराया रजवी परचम, 103वें उर्स ए रजवी का आगाज


यूपी बरेली। सुन्नी बरेलवियों के रूहानी पेशवा आला हज़रत इमाम अहमद रज़ा खान फ़ाज़िले बरेलवी के 103वें उर्स-ए-रज़वी का शनिवार शाम परचम कुशाई की रस्म से आगाज़ हो गया। उर्स स्थल इस्लामिया मैदान के गेट पर दरगाह प्रमुख हज़रत मौलाना सुब्हान रज़ा खान (सुब्हानी मियां) ने उलमा व अक़ीदतमंदो की मौजूदगी में रज़वी परचम लहराया। रात 10.35 बजे हुज्जातुल इस्लाम मुफ्ती हामिद रज़ा खान (हामिद मियां) साहब का कुल शरीफ हुआ। इसके बाद आल इंडिया तरही नातिया मुशायरा शुरू हुआ जो देर रात तक जारी रहा। उर्स की सभी तकरीबात कोविड 19 की गाइडलाइन के अनुसार दरगाह प्रमुख सुब्हानी मियां की सरपरस्ती व सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन रज़ा क़ादरी (अहसन मियां) की सदारत व उर्स प्रभारी सय्यद आसिफ मियां की निगरानी में अदा हुई। निज़ामत (संचालन) कारी नाज़िर रज़ा ने किया।


मीडिया प्रभारी नासिर कुरैशी ने बताया कि आज तीन रोज़ा उर्स की शुरुआत दरगाह स्थित रज़ा मस्जिद में कुरानख्वानी से हुई। दिन में रज़वी परचम आज़म नगर स्थित हाजी अल्लाह बख्श के निवास से सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन मियां की क़यादत में दरगाह आया। यहाँ सलामी देने के बाद परचम उर्स स्थल पहुँचा। इश्क़ मोहब्बत आला हज़रत-आला हज़रत के नारों से दरगाह प्रमुख सुब्हानी मियां सज्जादानशीन अहसन मियां व उलमा की मौजूदगी परचम कुशाई की रस्म अदा की। परचम कुशाई के बाद दरगाह प्रमुख हज़रत सुब्हानी मियां व सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन मियां ने देश-दुनिया मे अमन व खुशहाली व कोरोना खात्मे की दुआ की। नमाज़ ए मग़रिब हाजी गुलाम सुब्हानी व आसिम नूरी ने मिलाद का नज़राना पेश किया। कारी नोमान रज़ा ने तिलावत-ए-कुरान से किया। मुफ्ती सलीम नूरी बरेलवी ने हुज्जातुल इस्लाम के किरदार पर रोशनी डाली। कहा कि आपने आला हज़रत द्वारा लिखी गयी किताबो को दुनिया भर में पहुँचाने का काम किया। मदरसा मंज़र-ए-इस्लाम के फरोग के लिए काम किया। रात 10.35 बजे हुज्जातुल इस्लाम का कुल शरीफ हुआ। सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन मिया ने ख़ुसूसी दुआ की। इसके बाद तरही नातिया मुशायरा मुफ्ती सलीम नूरी, मुफ्ती आकिल रज़वी, मुफ्ती अनवर अली, मुफ्ती सय्यद कफील हाशमी की निगरानी में शुरू हुआ जो देर तक जारी रहा।


उर्स में आज


बाद नमाज़-ए-फ़ज़्र कुरानख्वानी होगी। इसके बाद सुबह 8 बजे महफ़िल का आगाज़ होगा। 9 बजकर 58 मिनट पर रेहान-ए-मिल्लत व 10 बजकर 30 मिनट पर हज़रत जिलानी मियां के कुल शरीफ की रस्म अदा की जाएगी। दिन में कार्यक्रम जारी रहेगें। इसी दिन रात 9 बजे देश भर के नामवर उलमा की तक़रीर होगी। रात 1 बजकर 40 मिनट पर मुफ्ती-ए-आज़म हिन्द के कुल शरीफ की रस्म अदा होगी दिन में सोमवार को आला हज़रत-आला हज़रत का 2 बजकर 38 मिनट पर होगा कुल शरीफ।