• nationbuzz3

लूट की योजना बनाते 6 गिरफ्तार हुक्का बार की आड़ में चल रहा था तस्करी का खेल


यूपी बदायूं। अवैध तरीके से खोले गए हुक्का बार की आड़ में लूट-खसोट समेत तस्करी का खेल चल रहा था। पुलिस ने छापेमारी कर 6 लुटेरों को गिरफ्तार किया है। ये सभी देर रात लूट को निकलने वाले थे। इनके पास से पुलिस ने अवैध असलहा भी बरामद किया हैं। चोरी की बाइक, नकदी समेत लूट का माल भी मिला है।


सदर कोतवाली इलाके के नई सराय क्षेत्र में काफी दिनों से हुक्का बार खुल गया था। स्थानीय समेत आस-पास जिलों के अपराधी यहां एकत्र होते और आपराधिक कृत्यों की कार्ययोजना बनाते थे।


मामले की सुगबुगाहट पर SOG टीम के साथ SHO कोतवाली हरपाल सिंह बालियान ने छापामारी की तो वहां से छह शातिर दबोचे गए। तलाशी में इनके पास से 4 तमंचे, कारतूस के अलावा चाकू, व 6 मोबाइल सेट बरामद हुए। इसके अलावा 3 बाइकें व 15 हजार 355 रुपये भी मिले।


हुक्के पर बन रही थी लूट की योजना


पुलिस इन शातिरों को कोतवाली ले आई। यहां पूछताछ में आरोपियों ने अपने नाम यश वर्मा निवासी बाबा कालोनी थाना सिविल लाइं, लालू यादव निवासी मोहल्ला ब्राह्मपुर, वरुण देवल निवासी टिकटगंज चौराहा थाना कोतवाली के साथ अयाज निवासी गांव सलारपुर, अब्दुल कादिर निवासी गांव बिलहरी थाना अलापुर और फैज उर्फ राजा निवासी नई सराय थाना कोतवाली बताया।


वो लूटें कबूलीं जो रिकार्ड में दर्ज नहीं


आरोपियों ने पूछताछ में लूट की उन घटनाओं को कबूला जिनमें कई पुलिस के रिकार्ड में दर्ज नहीं की गईं। इनमें सदर कोतवाली, सिविल लाइंस व उझानी इलाके की घटनाएं हैं। वजह है कि लूट पुलिस तब तक दर्ज नहीं करती, जब तक मामला तूल न पकड़ने पाए। आरोपियों द्वारा कबूली गई वारदातें सुनकर अंदरखाने पुलिस भी समझ गई कि लुटेरे सही हैं।


SOG के सिपाही की थी सरपरस्ती

बताया जाता है कि फिलहाल एसओजी में तैनात एक सिपाही की इस हुक्का बार को काफी समय से सरपरस्ती मिली हुई थी। सिपाही पूर्व में आबकारी अधिकारी बनकर शराब के ठेकों से ठगी भी कर चुका था। तत्कालीन SSP संकल्प शर्मा ने उसके खिलाफ जांच भी शुरू कराई थी। जबकि उनके तबादले के बाद सिपाही ने हुक्का बार खुलवा डाला। चर्चा है कि बार के मैनेजमेंट से किसी बात पर विवाद होने पर सिपाही ने अफसरों को हुक्का बार की सूचना मिलने की खबर दी और बाद में खुद रेड पार्टी में शामिल होकर वहां आ धमका।


हुक्काबार में हर अवैध कारोबार

इस हुक्काबार में महज लुटेरों की टोली ही एकत्र नहीं होती थी, बल्कि मादक पदार्थों की तस्करी से लेकर आटोमैटिक असलाहों की तस्करी का भी यही ठिया बना हुआ था। वजह चाहें जो भी हो लेकिन पुलिस इस अवैध हुक्काबार को सील करने में हीलाहवाली कर रही थी। हालांकि चर्चा जगजाहिर होने पर अंतत: पुलिस को यह बार सील करना पड़ा। SHO कोतवाली ने बताया कि जिन घटनाओं का वर्कआउट हुआ है। वह पुलिस के संज्ञान में नहीं थीं। फिलहाल बड़ा गैंग पकड़ा गया है और आरोपियों को जेल भेजा जा रहा है।